JalandharProtestPunjab

अश्वनी शर्मा के आह्वान पर भाजपा कार्यकर्ताओ ने पंजाब भर में भगवंत मान सरकार के विरुद्ध किए प्रदर्शन

300 यूनिट मुफ्त बिजली देना तो दूर, पैसे देकर भी तीन घंटे मिलनी हुई मुश्किल---राजेश बागा

*पंजाब में कानून-व्यवस्था की हालत बदतर, अपराधी पुलिस की नाक के नीचे कर रहे हत्याएं व लूटपाट—राकेश राठौर*
*भगवंत मान अपने राज्य को राम-भरोसे छोड़ पडोसी चुनावी राज्यों में कर रहे पंजाब के नाम से झूठा प्रचार—सुशील शर्मा*
*पंजाब सरकार द्वारा लगाए जा रहे बिजली कटों को लेकर भाजपा ने किया डीसी कार्यालय के समक्ष प्रदर्शन*
जालंधर *ग्लोबल आजतक़*
भगवंत मान सरकार द्वारा पंजाब के शहरों और गाँवों में लगाए जा रहे 12 से 14 घंटे के बिजली कटों से परेशान जनता तथा किसानों की आवाज़ मुख्यमंत्री भगवंत मान तथा उनकी सरकार के कानों तक पहुँचाने लिए प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अश्वनी शर्मा के आह्वान पर प्रदेश भर में भाजपा कार्यकर्ता जनता के हकों के लिए सड़कों पर उतर कर संघर्ष कर रहे हैं। इसी कड़ी में भारतीय जनता पार्टी जिला जालंधर के  अध्यक्ष सुशील शर्मा की अध्यक्षता में भाजपा कार्यकर्ताओं ने डिप्टी कमिश्नर कार्यालय के बाहर नारेबाजी करते हुए भगवंत मान सरकार के विरुद्ध धरना दिया।

राजेश बागा ने इस अवसर पर मीडिया से बात करते हुए कहा कि पंजाब में भाजपा की गठबंधन सरकार के समय सरप्लस बिजली थी और हम दूसरे राज्यों को भी बिजली देने लगे थे। लेकिन आम आदमी पार्टी की सरकार बनते ही ऐसा क्या हो गया कि पंजाब में इतना बड़ा *बिजली संकट आ खड़ा हुआ?* पंजाब में जब से आम आदमी पार्टी की सरकार बनी है तब से पंजाब की जनता मुख्यमंत्री भगवंत मान को सिर्फ अख़बार में छपी फ़ोटोज़ में ही देख रही है।

चुनाव से पहले पंजाब की जनता को 24 घंटे निर्विघन बिजली तथा हर घर को 300 यूनिट प्रति महीना मुफ्त बिजली देने का वादा करने वाले मुख्यमंत्री भगवंत मान जनता को निर्विघन या मुफ्त बिजली देना तो दूर, जो मिल रही थी उसे भी छीन लिया है। जनता को पैसे देकर भी बिजली नहीं मिल रही है। शहरों और गाँवों में 12 से 14 घंटे के लंबे-लंबे बिजली के कट लग रहे हैं। उपर से मौसम में आए अचानक बदलाव के कारण बड़ी भीषण गर्मी ने आम जनता का जीना दूभर कर रखा है। ऐसे में भगवंत मान सरकार द्वारा लगाए जा रहे बिजली के कटों ने जनता का तेल निकाल दिया है। किसान बिजली आपूर्ति की माँग को लेकर भगवंत मान सरकार के विरुद्ध बिजली मंत्री के घर के बाहर तथा सड़कें रोक कर प्रदर्शन करने लगे हैं। दु:खी जनता की आवाज़ भगवंत मान सरकार के कानों तक पहुँचाने के लिए भारतीय जनता पार्टी अपनी विपक्ष की भूमिका निभाते हुए आज प्रदेश अध्यक्ष अश्वनी शर्मा के दिशा-निर्देशों पर डिप्टी कमिशनर कार्यालय के बाहर सैकड़ों की संख्या में इकट्ठे होकर जनसमर्थन से प्रदर्शन कर रही है।
राकेश राठौर ने कहा कि पंजाब में अगर इसी हिसाब से बिजली के कट लगते रहे तो फ्री मिलने वाले 600 यूनिट तो आने वाली दिवाली तक भी पूरे नहीं होंगे। आम आदमी पार्टी के झूठे वादों से तंग आ चुकी जनता भी अब कहने लगी है *‘होर देवो वोट आप नूं, ना बत्ती दिन नूं, ते ना बत्ती रात नूं’* राकेश राठौर ने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान तथा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल चुनाव से पहले कहते थे कि यदि पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार बनेगी तो 1 अप्रैल के बाद पंजाब में कोई भी किसान आत्महत्या नहीं करेगा। लेकिन पंजाब में आम आदमी पार्टी की भगवंत मान सरकार बने हुए डेढ़ महीने से उपर हो गया है और 1 अप्रैल के बाद से अभी तक पंजाब में विभिन्न जिलों में 14 किसान खुदखुशी कर चुके हैं। लेकिन किसानों की हितैषी होने के बड़े-बड़े दावे करने वाली आम आदमी पार्टी की सरकार ने या उनके किसी नेता ने इन पीड़ित किसान परिवारों को मुआवज़ा देना तो दूर उनकी सुध तक नहीं ली। पंजाब में उन्हीं किसानों द्वारा भगवंत मान सरकार से अपनी खराब हुई फसलों के लिए मुआवजे की मांग करने पर भगवंत मान सरकार द्वारा उन्हीं किसानों पर लाठियां बरसाई गई हैं, जिसमें कई किसान बुरी तरह घायल हुए हैं। इसके बाद किसानों को सम्मन भेजे गए, जिससे किसान बुरी तरह डरे हुए हैं। इतना ही नहीं भगवंत मान सरकार द्वारा अब तो किसानों से बिजली के बिलों की भी रिकवरी शुरू कर दी है।
अनिल सच्चर, सुशील शर्मा ने कहा कि पंजाब के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि किसी के मुख्यमंत्री बनने के दो दिन बाद ही उसके घर के बाहर पक्का धरना लग गया हो। जी हाँ भगवंत मान के मुख्यमंत्री बनने के दो दिन बाद ही उनके घर के बाहर पुलिस भर्ती के नाम पर भगवंत मान से धोखा खाए पुलिस कर्मियों द्वारा पक्का धरना लगाया गया है और वह आज तक जारी है। *इससे ज्यादा शर्मनाक बात और क्या होगी?* पंजाब में अपराधियों के हौंसले इतने बुलंद हो चुके हैं कि दिन-दिहाड़े पुलिस की नाक के नीचे हत्याओं व् लूटपाट की घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। भगवंत मान सरकार बनने के बाद अभी तक डेढ़ महीने में बेख़ौफ़ अपराधियों द्वारा 5 कब्बडी खिलाडियों सहित 35 से ऊपर लोगों की हत्याएं की जा चुकी हैं और अपराधी पुलिस के पहुँच से दूर हैं।
कृष्णदेव भंडारी एवं महेंद्र भगत, ने कहा कि पटियाला हिंसा में अपनी नाकामी छुपाने के लिए मुख्यमंत्री भगवंत मान इस हिंसा को भाजपा व् कांग्रेस द्वारा प्रायोजित बता कर अपना पल्ला झाड़ रहे हैं। भंडारी एवं शर्मा ने सवाल किया कि भगवंत मान तथा केजरीवाल बताएं कि जब आम आदमी पार्टी पर शुरू से खालिस्तानियों के साथ संपर्क तथा फंडिग के आरोप लग रहे हैं और खालिस्तानी पन्नू ने भी इसकी पुष्टि कर दी है, तो भगवंत मान या केजरीवाल इस पर अपना स्पष्टीकरण जनता के समक्ष क्यूँ देते? क्यूँ मुंह छुपाए फिरते हैं? आम आदमी पार्टी द्वारा अपनी नाकामियों का ठीकरा भाजपा के सिर फोड़ना केजरीवाल की बहुत पुरानी आदत है और अब मुख्यमंत्री भगवंत मान भी केजरीवाल के नक्शेकदम पर चल रहे हैं। भगवंत मान ने केजरीवाल सरकार से ‘ज्ञान समझौता’ कर पंजाब को दिल्ली के हाथों बेच दिया है।
विनोद शर्मा एवं सरबजीत मक्कड़ ने कहा कि भगवंत मान सरकार जनता के लिए करती तो कुछ नहीं सिर्फ झूठे वादे और लारे दे कर जनता को मुर्ख बना रही है। लेकिन जनता पार्टी जनता के साथ धोखा नहीं होने देगी। भाजपा एक ही लक्ष्य है ‘सबका साथ, सबका विश्वास और सबका विकास’ और इसी लक्ष्य को लेकर भाजपा कार्यकर्त्ता दिन-रात जनता की सेवा में जुटे हुए हैं।
इस अवसर पर मुख्य रूप से उपस्थित भाजपा प्रदेश महामंत्री राजेश बागा, प्रदेश उपाध्यक्ष राकेश राठौर, प्रदेश सचिव अनिल सच्चर, पूर्वभारतीय विधायक एवं मुख्य संसदीय सचिव कृष्णदेव भंडारी, महेंद्र भगत, सुरिंदर महे, सरबजीत सिंह मक्कड़, विनोद शर्मा, रमन पब्बी, सुभाष सूद, अमरजीत सिंह अमरी, सुदर्शन सोबती, सतीश कपूर, राकेश गोयल, सनी शर्मा, पुनीत शुक्ला, राजीव ढींगरा, सतनाम बिट्टा, हरमिंदर सिंह काहलो, बालकृष्ण बाली,  कुलवंत शर्मा, रॉक्सी उप्पल, राजेश कपूर, मनीष विज, अमित भाटिया, अजय चोपड़ा, नीरज गुप्ता, तेजेंद्र वालिया, नितिन बहरोल, भूपेंद्र कुमार, बलजीत प्रिंस, दविंदर सिंह डिंपी लुबाना, अमरजीत सिंह गोल्डी, सुदेश भगत, शाम शर्मा, नरेंद्र पाल सिंह ढिल्लों,अमित लुधरा, अजमेर सिंह बादल, किशन लाल शर्मा, शिव दर्शन अभी, दविंद्र कालिया, हितेश सयाल, हरविंदर सिंह गोरा, सनी भगत, जय कल्याण, पवन हंस, अश्विनी अटवाल, भगत मनोहर लाल,  रितु कौशल, शैली खन्ना, आदि भी उपस्थित थे।

Sidhi Galbaat
Sidhi Galbaat
Sidhi Galbaat
Sidhi Galbaat

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!